Top 15 Best Attaullah Khan Shayari in Hindi

Attaullah Khan Shayari

Attaullah khan Shayari, क्या आपने कभी इसे खोजा है? ज्यादातर मामलों में, जवाब नहीं है और यहां तक कि कुछ लोग कह सकते हैं कि उन्होंने उसका नाम नहीं सुना है। लेकिन वह एक लीजेंड शायर भी हैं। अब सबसे अच्छी बात यह है कि हम यहां attaullah khan shayari hindi के एक महान वर्गीकरण के साथ हैं और यहां यह पहला भाग है जहां आप अताउल्लाह खान शायरी पढ़ते हैं। अब उनके संक्षिप्त परिचय के बिना अगर हम सीधे उनकी शायरी पेश करते हैं तो यह थोड़ी गड़बड़ हो जाती है। अब सवाल यह है कि यह किंवदंती कौन है?

Attaullah Khan

उनका जन्म 1951 में एसा खेल, मियांवाली, पंजाब प्रांत, पाकिस्तान में Attaullah Khan Niazi के रूप में हुआ था। पाकिस्तान सरकार ने उन्हें 1991 में प्राइड ऑफ परफॉर्मेंस अवार्ड दिया था। उन्हें 23 मार्च 2019 को सितारा ए इम्तियाज भी दिया गया था। उन्होंने सात भाषाओं में 50,000 से अधिक गाने रिकॉर्ड किए हैं। वह एक जीवित किंवदंती है। अब उनकी शायरी से शुरू करते हैं।

Attaullah Khan Shayari in Hindi

attaullah khan shayari


Khidar banke rahe zamane me !!
Khud jab bhatke to rasta na mile ..
Roshni baat te rahe hai logo me !!
Apne ghar ke liye diya na mile..

खिदर बनके रहे ज़माने मे !!
खुद जब भटके तो रास्ता ना मिले ..
रोशनी बाँटते रहे है लोगो मे !!
अपने घर के लिए दिया ना मिले.. ॥॥

Ab to khushi ka gaam hai na hai gam ki khushi mujhe ..
Behish bana chuki hai bahut jindegi mujhe..
Yu diya fareb mohabbat ke umra bhar !!
Mai jindegi ko yaad karu aur jindegi mujhe..

अब तो खुशी का गम है ना है गम की ख़ुशी मुझे ..
बेहिश बना चुकी है बहुत जिंदगी मुझे ..
यू दिए फरेब मोहब्बत के उमरो भर !!
मै जिंदगी को याद करू और जिंदगी मुझे ..

Attaullah Khan Shayari Lyrics in Hindi

Koi aarzu nahi hai koi mudda nehi hai ..
Tera gaam rahe salamat mere dil me kya nehi hai..
Kaha jaam-e-gam ki talkhi kaha jindgi ka daarma
Mujhe woh dawa mili hai jo meri dawa nehi hai..
Tu bachaye lakh daaman mera phir bhi ye hai dawa
Tere dil me mai hi mai hu koi dusra nehi hai..

कोई आरज़ू नही है कोई मुद्दा नही है..
तेरा गम रहे सलामत मेरे दिल मे क्या नही है...
कहा जाम-ए-गम की तल्खी कहा जिंदगी का दरमा
मुझे वो दवा मिली है जो मेरी दवा नही है...
तू बचाए लाख दामन मेरा फिर भी ये है दवा
तेरे दिल मे मै ही मै हू कोई दूसरा नही है..

Iss meheke tarannum me jawani ko duba de ..
Neki ka agar daag bhi dil me hai to dho de
Yu jaam utha , jhoom ke reh jaye zamana
Maikhane ka dar chum ke reh jaye zamana...

इस मेहके तरन्नुम मे जवानी को डूबा दे ..
नेकी का अगर दाग भी दिल मे है है तो धो दे
यू जाम उठा, झूम के रह जाए ज़माना
मैखाने का दर चूम के रह जाए ज़माना...

आप उनकी कुछ शायरी पहले ही पढ़ चुके हैं। अब हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि उनकी शायरी कितनी खूबसूरत है। हां, हम जानते हैं कि आप क्या कहना चाहते हैं लेकिन हम आपसे चाहते हैं कि न केवल आप बल्कि सभी लोग Attaullah Khan Shayari lyrics जाने और यह तभी संभव है जब आप हमारी साइट को साझा करेंगे shayarixpert.in अपने सोशल मीडिया हैंडल में। साथ ही, हमारे Facebook पेज पर हमें फ़ॉलो करना न भूलें। इसलिए ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। आइए पढ़ते हैं उनकी शायरी।

Attaullah Khan Shayari Image

attaullah khan shayari in hindi

Cheraag ke noor par na jao,
Cheraag ke roshini na dekho,
Kisi patange ki baddua hai,
Woh zindagi bhar jala karega..

चिराग के नूर पर ना जाओ,
चिराग के रोशिनी ना देखो,
केसी पतंगे की बददुआ है,
वो ज़िन्दगी भर जला करगा ॥

Milega kya kisi majboor ko satane se..
Khuda ke waste baaz aaja dil dukhane se..
Tamaan umar ke rone se yeh behtar tha !!
Ke baaz rehta mai ek baar dil lagane se...

मिलेगा क्या किसी मजबूर को सताने से..
खुदा के वास्ते बाज़ आजा दिल दुखाने से..
तमाम उमर के रोने से ये बेहतर था !!
के बाज़ रहता मै एक बार दिल लगाने से...

Attaullah Khan ki Shayari Hindi me

Shukriya Umar aap ki nawazishon ka,
Gaam ki daulat mujhe ata kar di..
Tu ne haas haas ke ibteda ki thi,
Maine ro ro ke intehaa kar di..

शुक्रीया उमर आप का नवाज़िशों का,
गम की दौलत मुजे अता कर दी ॥
तू ने हस हस के इब्तेदा की थी,
मेने रो रो के इन्तेहा कर दी ॥

Hakikat hai ke maar kar bhi, unhe hum yaad rakhenge..
Yeh gulshan unki yaadoon ka sada aabaad rakhenge..
Mere saat unka wada hai, meri koi kabar na khode,
Meri us aakhri ghar ki woh khud buniyaad rakhenge!!!

हकीकत है के मर के भी, अनहे हम याद राखेंगे ॥
ये गुलशन उनकी यादो का सदा आबाद राखेंगे ॥
मेरे साथ अनका वडा है, मेरी कोई कबर ना खोदे..
मेरी उस अँखरी घर की वो खूद बुनियाद राखेंगे !!!

Attaullah Khan Ki Shayari

attaullah khan ki shayari

Pehli mohabbat mein khata kar raha hoon..
Kisi bewafa se wafa kar raha hoon..
Woh thukraye to kya hua mere khuda,
Tu hi mila de tujhse duaa kar raha hoon..

पेहली मोहब्बत में खता कर राहा हूं ॥
किसि बेवफा से वफ़ा कर राहा हूं ॥
वो ठुकराये तो क्या हुआ मेरे खुदा,
तू ही मिला दे तुझसे दुआ कर रहा हूं ॥

Arz Hai
Arz Nahi Ye Toh Ek Karz Hai..
Na Arz Hai, Na Karz Hai, Ye Toh Har Bimaari Ka Marz Hai ..
Aab Na Arz Hai Na Karz Hai Bimaari Se Hum Mar Gaye,
Aab Toh Sirf Dard Hi Dard Hai ..

अर्ज़ है
अर्ज़ नही ये तो एक कर्ज़ है ॥
ना अर्ज़ है, ना कर्ज़ है, ये तो हर बिमारी का मार्ज़ है ॥
आब न अर्ज़ है ना कर्ज़ है बिमरी से हम मर गए,
अब तो सिर्फ दर्द हि दर्द है ॥

attaullah khan shayari status

Aaz Dard Sine Me Bar Bar Udta Kyu Hai
Ashko Ka Sawan Bar Bar Ankho Se Barasta Kyu Hai
Tadaf Hai Us Se Milne Ki, Magar Rahein Nehi Hai ..
Baichainiya Mere Maan Ko Aaj Satai Kyu Hai ..

अज डर सिने मे बार बार उठता क्यू है !!
अश्को का सावन बार बार अँखो से बारास्ता क्यु है !!
तदफ है उस से मिलने की, मग रारे नेही है ॥
बैचेनीया मेरे मन को आज सताइ क्यूं है ॥

Aaj Kuch yu Dard Ko Azmaya Maine
Ki Jakham Dene Wale Khanjar Ko Hi,
Apne Aanchal Me Chhupaya Maine..
Duniya Gila Karti Hai Mujhse Ki
Mere Jakham Najaar Nahi Aate
Kya Batau Ki Kis Tarha Muskurahat Ke
Pardo Me Inko Chhupaya Maine
Aaj Kuch is kadar Dard Ko Aajmaya Maine..

जज कुछ यू दर्द को आज़माया मेने
की जखम देने वाले खंजर को ही,
आपने आँचल मैं छुपाया मेने ॥
दुनि‍या गिला करति है मुजसे की
मेरे जखम नजर नही आते
क्या बाताउ की किस तरहा मुस्कुराहत के
परदो मे इनको छुपाया मैने
अज कुच इस कदर दर्द को आजमाया मेने ॥

attaullah khan ki ghazal

Aaj Mere Dard Ki Inteha Hone De..
Maat Rok Mujhe Jee Bhar ke Rone De ..
Nahi Manjoor Zindagi Tere Pyar Ka Bagair !!
Aaj Mujhe Maut Ki Aagosh Mein Sone De ..

अज मेरे दर्द की इंतेहा होने दे ..
मत रोक मुझे जी भर के रोने दे ..
नहि मंजूर जिंदगी तेरे प्यार के बगैर !!
आज मुझे मोत की आगोश में सोने दे ॥

Aansu Bhari Aankhon Se
Aaj Tujhe Yaad Kar Raha Hoon !!
yeh Khuda Mujhe Tujh Se Mila De,
Sacche Dil Se Fariyaad Kar Raha Hoon !!

आंसु भरी आंखों से
आज तुझे याद कर रहा हु !!
ये खुदा मुजे तुझ से मिला दे,
सच्चे दिल से फ़रियाद कर राहा हु !!

Aap Hamain Dard Dete Hain,
Hum Haas Ke Sehte Hain
Agar Koi Khata Hui Hai Hamse,
To Apne Hain,
Apno Ko Maaf Kar dete Hain ..

आप हमे दर्द देते हे,
हम हस के सेहते हैं !!
अगर कोई खता हुई है हमसे,
तो आपने हे ,
अपनो को माफ़ कर देते है ॥

अब हम इस पोस्ट में सबसे नीचे हैं लेकिन यकीन मानिए हम पोस्ट के अंत में नहीं हैं। हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि हम भविष्य में और अधिक attaullah khan ki Shayariदेंगे। हमें आपके समर्थन की आवश्यकता है दोस्तों क्योंकि हम अपनी साइट पर कई प्रकार की अनूठी और ताज़ा शायरी नियमित रूप से प्रकाशित करते हैं और आप हमें कैसे समर्थन दे सकते हैं? बस हमारी साइट shayarixpert.in को जितना हो सके शेयर करें। अलविदा। जल्द ही मिलते हैं।

You may also like:
1. Naya Saal ki Shayari Hindi me
2. Rahat Indori Shayari in Hindi
3. Kisi ke baap ka hindustaan thodi hai by Rahat Indori

अंतिम शब्द:
उम्मीद है कि आपको उपरोक्त सभी Attaullah Khan Shayari पसंद आएंगे। नीचे टिप्पणियों में अपनी राय साझा करें और हमें बताएं कि हमारी साइट पर क्या सुधार करना है। आपकी राय मूल्यवान है। धन्यवाद।

Post a Comment